अनिल कपूर : एक्टिंग के साथ-साथ ट्रम्पेट बजाना चुनौतीपूर्ण था

anil kapor

अनिल कपूर के लिए यह एक लंबी यात्रा रही है जहाँ 1983 में आई फ़िल्म “वो सात दिन” के लिए अभिनेता ने हारमोनियम सिख कर अपने बॉलीवुड कैरियर की शुरुवात की थी और अब “फन्ने खान” के लिए अनिल कपूर ने ट्रम्पेट पर हाथ आजमाया है। भले ही इन दोनों फिल्मों के बीच 35 वर्ष का अंतराल हो गया है लेकिन इंस्ट्रूमेंट सीखने की ललक हमेशा की तरह आज भी बुलंद है। जैसे ही उन्होंने अपनी पहली फिल्म के लिए किया था, वह फन्ने खान की शूटिंग शुरू करने से पहले ट्रम्पेट बजाने में कुशल बन गए थे।

अनिल कपूर ने कहा – ,”परिश्रम आवश्यक था। ट्रम्पेट मेरे चरित्र का एक अभिन्न हिस्सा है। यह पूरी फिल्म में मेरे साथ एक सम्मानित अधिकार के रूप में रहता है। मैं नया इंस्ट्रूमेंट सीखने के लिए उत्साहित था और पेशेवर खिलाड़ी रमेश कुमार गुरुंग से इसे बजाना सीखा है।”

अनिल कपूर अपनी फिल्मों में तरह-तरह के इंस्ट्रूमेंट बजा चुके है, यहाँ तक कि 1971 में आई फ़िल्म “तू पायल में गीत” में बतौर बाल कलाकार वह सितार भी बजा चुके है लेकिन इन सब के बीच ट्रम्पेट सीखना उनके लिए सबसे कठिन था। इसे बजाना और अभिनय के साथ इसे बजाना, दो अलग अलग बातें है। इंस्ट्रूमेंट बजाने के वक़्त हावभाव व्यक्त करना चुनौतीपूर्ण था। मेरा किरदार फन्ने जब भी दुःखी या खुश होता है तो वह इसे बजाता है इसिलए मुझे इसे रियल दिखाने की ज़रूरत थी।”

अनिल कपूर ने अक्सर संगीत सीखने के लिए किसी सीमा को अपने बीच आने नहीं दिया। सितार सीखने के उनके प्रयास के दौरान उन्हें रोज़ाना चेम्बूर से बांद्रा तक सफ़र करना पड़ता था जबकि उस वक़्त वह महज़ 12 वर्ष के थे।

“वो सात दिन” के लिए हारमोनियम सीखने के दौरान, अपने किरदार को न्याय देने के लिए अनिल ने अर्द्ध शास्त्रीय संगीत में महारत हासिल की थी। “मैंने उस्ताद इकबाल अहमद खान से हारमोनियम की शिक्षा ग्रहण की थी। संगीत ने मेरे कैरियर का एक अभिन्न अंग रहा है। मैंने जो किरदार निभाए है उनके जरिये मुझे राग और ताल की समझ आई।”

अपनी तरह की एक म्यूजिकल कॉमेडी, “फन्ने खान” एक पिता की कहानी के बारे में जो अपनी महत्वाकांक्षी सिंगर बेटी का सपना पूरा करना चाहते है। फन्ने खान के साथ ऐश्वर्या और अनिल कपूर लगभग 17 साल के लंबे अंतराल के बाद एक साथ वापसी कर रहे है।

“फन्ने खान” के साथ अतुल मांजरेकर निर्देशन के क्षेत्र में अपनी नई शुरुआत कर रहे है।

गुलशन कुमार, टी-सीरीज़ और वीरेंद्र अरोड़ा प्रस्तुत करते है राकेश ओमप्रकाश मेहरा पिक्चर्स की एक फिल्म जिसे अनिल कपूर फिल्म और कम्युनिकेशन नेटवर्क के एसोसिएशन में बनाया गया है। भूषण कुमार, राकेश ओमप्रकाश मेहरा और अनिल कपूर द्वारा निर्मित। पीएस भारती, राजीव टंडन और कृष्ण कुमार द्वारा निर्मित। कुसुम अरोड़ा और निशांत पिट्टी द्वारा निर्मित और अतुल मांजरेकर द्वारा निर्देशित “फन्ने खान” 3 अगस्त 2018 के दिन रिलीज होगी।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *