धड़क मूवी रिव्यू , मधू और पार्थवी की मासूमियत से भरी धड़क दिल को छू जायेगी

dhadak ki janvi

मूवी :                   धड़क

प्रोडक्शन :          धर्मा प्राडक्शन

निर्माता :              करण जौहर और जी कपंनी और अपूर्व मेहता

निर्देशक :           शशांक खेतान

कलाकार  :         ईशान खट्टर , जाह्नवी कपूर, आशुतोष राणा

जानर :                इमोशनल ड्रामा

रेटिंग :                स्टार (3.5/5)

फिल्म समीक्षा  :  आरती सक्सेना , एडिटर अमित बच्चन

जब किसी प्रसिध्द फिल्म प्रसिध्द मेकर और स्टार बच्चो के साथ किसी फिल्म की ओपनिंग होती है तो दर्शको की उम्मीद उस फिल्म से कुछ ज्यादा ही बढ जाती हैं । ऐसा ही कुछ फिल्म धड़क से साथ भी हैं धड़क जो 20 जुलाई को रिलीज हुई हैं ये मराठी की सुपर हिट फिल्म सैराट की रिमेक है । इस फिल्म से दो स्टार बच्चो ने शरूवात की है जिनमे एक हैं श्रीदेवी की बेटी जाह्नवी कपूर और शाहिद कपूर के भाई ईशान खट्टर। धड़क फिल्म की अगर बात करे तो ये फिल्म ऐसे अच्छी बनी है अगर इसकी तुलना सैराट से ना करे तो । लेकिन अगर सैराट से तुलना करके इस फिल्म की समीक्षा करे तो ये फिल्म सैराट के आसपास भी नजर नही आती ।

कहानी — फिल्म की कहानी उदयपूर मे आयोजित मेले से शुरू होती है जंहा पर फिल्म का हीरो मधू ईशान खट्टर ज्यादा से ज्यादा खाने की प्रतियोगिता मे हिस्सा लेता है ताकि वो ये प्रतियोगिता जीत कर पार्थवी जाह्नवी कपूर का दिल जीत सके । मधू की जीत होती है और मधू और पार्थवी का प्यार परवान चढता है। लेकिन तभी उनके भाई और भाई के दोस्तो केा जाहनवी और मधू की प्रेम कहानी का पता चल जाता है जिसके चलते ये जोड़ी रोेमांस करते हुए भी पकड़ी जाती है। चुकि जाह्नवी के पिता आशुतोष राणा पावर फुल आदमी है वो मधू को पुलिस से मार खिलवाते हे । और जब पुलिस मधू को जेल मे ले जा रही हेाती हैं तब अचानक जाह्नवी आकर पुलिस वाले की बदुक निकाल कर मधू को भगाने मे कामयाब हो जाती है। मधू और पार्थवी भाग कर मुंबई आ जाते हैं। और मुंबई से वो कोलकाता चले जाते हैं जंहा वो अपना प्यार का आशियाना बनाते हैं जिसके बाद कुछे ऐसा होता है जो सबकी धड़कन रेाक देता हैं आखिर ऐसा क्या होता है ये जानने के लिये आपको धड़क देखने थिेयेटर तक जाना पडे्रगा ।

अभिनय —  धड़क के हीरो ईशान खट्टर इस फिल्म से पहले भी एक और फिल्म बियोंड द क्लाउड मे काम कर चुके  हैं। लिहाजा उनके लिये ये फिल्म दुसरी कोशिश थी । जिसमे ईशान काफी हद तक कामयाब रहे हैं । उनके चेहरे पर गजब की मासूमियत हैं । जो बच्चो की मासूमियत का एहसास दिलाती है। हीरो के किरदार के लिये वो बहुत छोटे नजर आते है। लेकिन उन्होने अपने किरदार के साथ पूरी तरह न्याय किया है। हीरोइन जाह्नवी कपूर जो प्रसिद्ध एक्ट्रेस श्रीदेवी की बेटी  ने फिल्म मे अपनी तरफ से पूरी मेहनत की हैं खुबसूरती के मामले मे वह अपनी मां की तरह पूरी तरह खूबसूरत और चंचंल नजर आती है। लेकिन अगर अभिनय की बात करे तो उन्होने पहली फिल्म के हिसाब से काफी हद तक ठीक ठाक अभिनय किया है। खासतौर पर इंटरवल के बाद उनके अभिनय मे ज्यादा निखार आया है। लेकिन आगे उनको अपने अभिनय मे और ज्यादा मेहनत करने की जरूरत हैं । लेकिन इतना कह सकते हैं कि जाहनवी भी अपनी मां की तरह एक चमकता सितारा जरूरी बनेगी । फिल्म के विलेन आशुतोष राणा की एक्टिंग ठीक ठाक है क्योंकि उनको कुछ ज्यादा करने का मौका ही नही मिला है। बाकी सारे किरदार अपने हिसाब से अच्छे रहे हें।

Dhadak

निर्देशन — धड़क का डायरेक्शन शशांक खेतान ने किया है। शशांक खेतान इस बार डायरेक्शन मे चूक गये । क्येाकि फिल्म का डायरेक्शन  इस बार असरदार नही लगता । सैराट की नकल करने के चक्कर मे डायरेक्टर ने अपना हुनर दिखाया ही नही है।बस सीधे सीधे फिल्म को एक ही ओर लेते चले गये हैं। फिल्म की स्क्रिप्ट और डायलाॅग भी असरदार नही है। ऐसे मे कलाकारो की मेहनत बर्बाद हेाती नजर आती है।

संगीत —  ज्यादातर करण जौहर की फिल्म का संगीत सालो याद रखा जाता है। लेकिन इस फिल्म का संगीत दमदार नजर नही आता । सिवाय झिंगाट गाने के कोई भी गाना दमदार नही है। और झिंगाट मराठी फिल्म से ही हूबहू कापी करके प्रस्तुत किया गया है। सिर्फ गाने के बोल हिन्दी मे बनाये गये हैं।

लोकेशन —  धड़क की शूटिंग मुबई उदयपुर और कोलकाता मे की गई हे दर्शको को यंहा की सुदर जगहो का नजारा जरूर प्रभावित करेगा ।

धड़क के प्लस और माइनस प्वाइंट —  धड़क फिल्म एक बार जरूर देखी जा सकती है। वजह है फिल्म की चौका देने वाली कहानी खास तौर पर क्लाइमेक्स, श्रीदेवी की बेटी जाह्नवी कपूर और शाहिद कपूर के भाई ईशान खट्टर मासूमियत से भरा अभिनय और खूबसूरत लोकेशन। माइनस प्वाइंट बेअसर डायरेक्शन, कमजोर संवाद ,और फिल्म की धीमी गति से आगे बढना । साथ ही ये कह सकते हैं अगर इस फिल्म की तुलना सैराट से ना करे तो धड़क फिल्म एक बार तो जरूर दर्शको के दिलो को धड़का देगी ।

dhadha




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *