मूवी रिव्यू , मां बेटे के रिश्तो पर आधारित हेलीकाप्टर ईला

Helicopter Eela_2

मूवी रिव्यू  :            मां बेटे के रिश्तो पर आधारित हेलीकाप्टर ईला 

मूवी          :            हैलीकाप्टर ईला

निर्माता     :            अजय देवगन प्राडक्शन

निर्देशक    :            प्रदीप सरकार

संगीत       :            अमित त्रिवेदी,  राधव सचदेव

कलाकार   :           काजोल,  रिघ्दी सेन,  नेहा धूपिया

जाॅनर         :          इमोशनल ड्रामा

रेटिंग        :           स्टार (3.5/5)

समीक्षा     :           आरती सक्सेना , एडिटर अमित बच्चन

जब कोई प्रसिध्द कलाकार किसी फिल्म मे काफी अरसे बाद आता है तो उसके फैन्स केा उस फिल्म को लेकर ढेर सारी उम्मीदे होती है। ऐसी ही कुछ उम्मीदे दर्शको को काजोल से है जो अपनी नई फिल्म  हैलीकाप्टर लेकर प्रस्तुत हुई है। काजोल का अभिनय तो फिल्म मे लाजवाब है लेकिन फिल्म की कहानी एक ही ट्रेक पर दोैडने की वजह से फिल्म काफी धीमी गति से आगे बढती है। फिल्म  के कई सीन बार बार रिपीट लगते हैं । चुकि कहानी का प्लाट काफी सीमित था इस लिये फिल्म मे कोई खास बात नजर नही आई । बहरहाल इंटरवल के बाद फिल्म ने थोडी गति पकड़ने की कोशिश की है। मगर फिल्म मे कही ना कही खास तौर पर कहानी का अभाव नजर आता है।

कहानी —— फिल्म  की कहानी मां बेटे के रिश्ते की कहानी है हैलीकाप्टर ईला । जिसके तहत अभिनेत्री काजोल मां के किरदार मे नजर आइ्र्र हैं ईला सिंगर मदर हे क्येािक उनका पति अरूण उनको किसी कारण वंश छोड़ कर चला गया था । लिहाजा काजोल ने बतौर सिंगल मदर अपने बेटे विवान की परवरिश की । और इसी दौरान बेटा कब बड़ा हो गया और कालेज जाने लगा ।काजोल को पता ही नही चला । बचपन से ही अपने बैेटे के लिये अति पजेसिव काजोल बेटे की हर प्रक्रिया पर नजर रखती हैं जिसके तहत वो उसके कालेज मे भी एडमिशन ले लेती हैं विवान अपनी मां की इस हरकत से परेशान होकर धर छोड कर चला जाता है और उसके बाद कया होता है ये देखने के लिये आपकेा थियेटर तक जाना होगा ।

अभिनय—– अभिनय की अगर बात करे तो काजोल हमेशा से ही अपने उच्चतम अभिनय के लिये पहचानी जाती रही हैं । इस फिल्म  मे भी काजोल ने सशक्त अभिनय किया हैं साथ ही वो अपने चुलबुले अंदाज के तहत काफी खुबसूरत भी लगी है। काजोल के बेटे के रूप मे रिध्दीम ने अच्छा काम किया है ।बाकी सभी कलाकार भी कहानी के मुताबिक ठीक ठाक थे ।

डायरेक्शन—– फिल्म का डायरेक्शन एवरेज है चुकि फिल्म  की कहानी मां बेटे के रिश्ते के इर्द गिर्द धूमती है इस लिये डायरैक्टर को कुछ खास कारनामा दिखाने का मौका ही नही मिला । लेकिन जितना भी डायरेक्टर ने डायरेक्शन दिया है वो सधा हुआ है।

संगीत   ——  हैलीकाप्टर ईला का संगीत कर्ण प्रिय  है। कुछ गाने काफी अच्छे बन पड़े हैं।

फिल्म देखे कि ना देखे —— हैलीकाप्टर मां बेटे के रिश्तो पर आधारित एक फेैमिली बेस्ड कहानी है जिसे परिवार के साथ देखा जा सकता है। और खास तौर पर उन मांओ केा तो ये फिल्म जरूर देखनी चाहिये जिनका मकसद वन एंड औनली अपने बेटे के पीछे पड़े रहना है। ऐसी पजेसिव मांओ के लिये ये एक बेहतरीन सीख है।

 




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *