मूवी रिव्यू : हिन्दु मुसलमान की मानसिकता को दर्शाती मुल्क 

mulk1

फिल्म :      मुल्क

निर्माता :    दीपक मुकूट

निर्माता .निर्देशक : अनुभव सिन्हा

कलाकार : ऋषि कपूर ,तापसी पन्नू प्रतीक बब्बर ,रजत कपूर,आशुतोष राणा ,मनोज फावा, नीना गुप्ता 

संगीत : अनुराग साइकिया और मगेश धाकड़़े

जाॅनर : देशप्रेम भावना से भरपूर

रेटिंग :  स्टार (3.5/5)

फिल्म समीक्षा  :  आरती सक्सेना , एडिटर अमित बच्चन

हमारा देश भले ही आज 21 वी सदी मे जी रहा है लेकिन उसकी मानसिकता आज भी धर्म के नाम पर रूकी हुई हैं धर्म के नाम पर सालो से युघ्द हेाता आ रहा है जिसका फायदा पहले राजा महाराजा उठाते थे ।अब पॉलिटिशियन उठाते हैं। अंग्रेजो ने आजादी तो दे दी लेकिन देश केा हमेशा के लिये देा भागो मे बाट दिया । जिसमे एक हिन्दू है तो दुसरा मुसलमान । आज इक्कसवी सदी मे भी धर्म के नाम पर दोस्त को दुश्मन बनते समय नही लगता । धर्म की आड़ मे आंतकवाद फहलाने वाले आंतकवादी जिहाद को ढाल बना कर कैसे नवयुवकेा को ना सिर्फ गुमराह करते हैं बल्कि भरी जवानी मे आंतकवादी कहला कर कुत्ते से भी बददतर मौत मरने पर कैसे मजबूर कर देते हैं यही इस फिल्म मुल्क मे दिखाया गया है। जो कि बहुत ही बेहतरीन तरीके से पेश किया गया है। किसी शरीफ के धर मे अगर एक आंतकवादी निकल आये तो पूरे परिवार केा उसका खामियाजा कैसे भुगतना पड़ता है मुल्क मे इस जज्बात केा बहुत ही अच्छे तरीके से पेश किया गया है।

कहानी …. फिल्म की कहानी बनारस शहर के एक मुसलिम परिवार के धर से शुरू होती हैं जंहा पर हंसी खुशी का माहौल है तापसी वकील है जो लंदन से आई हैं और इस धर की बहु हैं देा भाई है जिनमे एक भाई ऋिषी कपूर है जो धर के मुखिया है और दुसरे भाई मनोज पाहवा है जो मोबाइल की छोटी सी दुकान चलाते हैं उनका बेटा है प्रतिक बब्बर जो आंतकवादियेा के संपर्क मे आ जाता है और यंहा से शुरू हेाता है एक आंतकवादी की वजह से पूरे परिवार पर कहर का सिलसिला । आंतकवादी प्रतीक बब्बर जहा पुलिस के हाथेा मारे जातेहै। वही प्रतीक के पिता बने मनोज पाहवा पर और धर के सभी लोगोपर कानून का पंजा कस जाता है। जिसमे मनोज पाहवा की मोत भी हो जातीहै। तापसी जो वकील है वो एक सच्चा मुसलमान को उनका सम्मान दिलाने के लिये कोर्ट मे अपोजिट वकील जो कि आशुतोष राणा है के साथ बहस करती हैं और इस तरह कोर्ट रूम ड्रामा के साथ कहानी आगे बढती हैं ।

अभिनय ….. अभिनय की अगर बात करे तो एक बार ऋिषी कपूर ने अपने दमदार अभिनय के जरिये साबित कर दिया कि बाप बाप हेाता है कहने का तात्र्पय ये है कि हाल ही मे रणबीर कपूर ने संजू मे जंहा अपने सशक्त अभिनय के जलवे बिखेरे है। वही ़िऋषी कपूर भी कम नही है 102 नाॅट आउट के बाद अब मुल्क मे ऋिषी कपूर ने सािबत कर दिया कि वो बेहतरीन एक्टर हैं ।इसके अलावा मनेाज पाहवा ने भी अपना किरदार बहुत ही सलीके से निभाया है तापसी पन्नू की अगर बात करे तो तापसी पन्नू ने अपने अभिनय कैरियर मे हमेशा से कुछ हट के किया है। जिस वजह से उनकेा बेहतर अभिनेत्री के रूप मे नवाजा जाता है । मुल्म मे भी उन्होने बहुत अच्छा अभिनय किया है। जो दर्शको को हमेशा याद रहेगा ।इसके अलावा प्रतीक बब्बर रजत कपूर और आशुतोष राणा ने भी अपना किरदार बखुबी निभाया है। ओवर एंड मुल्क के हर किरदार ने अपना काम अच्छे से किया है जिसका कै्रडिट पूरी तरह डायरेक्टर को जाता है।

निर्देशन ... फिल्म का निर्देशन अनुभव सिन्हा ने किया है जो कि काबिले तारीफ हैं कहना ना होगा कि इस फिल्म की स्क्रिप्ट संवाद स्क्रिनप्ले इतना कड़क है कि दर्श को केा पूरी तरह बांधे रखा है । जब कि फिल्म की कहानी टेशन से भरी है। फिर भी दर्शक फिल्म बीच मे नही छोड़ पाते यही अच्छी फिलम निर्माण का सबूत है। फिल्म की हर सीन पर बारीकी से काम किया गया है फिर भी हिन्दु मुस्लिम धर्म को कहानी का सार बनाने वाले अनुभव सिन्हा कही कही विवादित संवाद मे उलझते भी नजर आये है। लेकिन बावजूद इसके फिल्म का डायरेक्शन टू दी प्वाइंट है।

संगीत … फिल्म का संगीत फिल्म के मुताबिक है जो ठीक ठाक है।

मुल्क की कहानी सच्ची धटना पर आधारित है जो देश भक्ति की भावना को दर्शाती है ये और फिल्मो की तरह मनेांरजन से भरपूर फिल्म तो नही है लेकिन मुल्क एक शिक्षा प्रद फिल्म है जिसे कम से कम एक बार दर्शको को जरूर देखना चाहिये ।

mulkpor

 




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *